समेकित विकास- e-Pithoragarh
जनपद में संचालित समस्त योजनाओं का पूर्ण विवरण
जाने पिथौरागढ़ को »परिचय Back
       कुमायूँ मण्डल का सीमान्त जनपद पिथौरागढ़ वर्ष 1960 में जनपद अल्मोड़ा के हिस्से को अलग करके स्थापित किया गया। वर्ष 1972 में अल्मोड़ा जनपद की चम्पावत तहसील को भी इस नये जनपद पिथौरागढ़ में मिला दिया गया। इस जनपद का विस्तार 29.4 डिग्री से 30.3 डिग्री उत्तरी अक्षांश तथा 80 डिग्री से 81 डिग्री पूर्वी देशान्तरों के मध्य है। जनपद की उत्तरी तथा पूर्वी सीमाऐं क्रमश: तिब्बत तथा नेपाल से लगती है। तथा दक्षिणी सीमा नवसृजित जिला चम्पावत तथा पशिचमी सीमा अल्मोड़ा, बागेश्वर जनपद को स्पर्श करती है।
       उत्तरी सीमा पर हिमाच्छादित गिरिमाला, पंचाचूली और त्रिशूल शिखर अपने प्राकृतिक सौन्दर्य के लिए विख्यात है। सारा जनपद पर्वतों, घाटियों का क्षेत्र है। जनपद का भौगोलिक क्षेत्रफल 7090 वर्ग किमी. है। जनपद पिथौरागढ़ को भौगोलिक दृष्टिकोण से तीन भागों में बाटा जा सकता है। उत्तरी क्षेत्र में इस क्षेत्र में धारचूला, मुनस्यारी विकास खण्ड आते हैं। भोटिया जनजाति के लोग धारचूला तथा मुनस्यारी के मूल निवासी हैं। इस क्षेत्र का संयुक्त क्षेत्रफल सारे जनपद के भौगोलिक क्षेत्रफल का 63 प्रतिशत है। मघ्य क्षेत्र जनपद में कनालीछीना, डीडीहाट तथा बेरीनाग विकास खण्ड आते हैं। इस क्षेत्र का विस्तार जनपद के भौगोलिक क्षेत्रफल का 19 प्रतिशत है। पूर्वी सीमा पर काली, पश्चिमी सीमा पर सरयू तथा मध्य क्षेत्र में रामगंगा बहती है।दक्षिणी क्षेत्र में विण, मूनाकोट व गंगोलीहाट विकास खण्ड आते हैं तथा इनके मध्य भाग में प्रसिद्ध सोरघाटी है। यहीं जिला मुख्यालय भी स्थित है।
       इस जनपद के लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि, बागवानी तथा व्यापार है। औद्योगिक रूप से यह जनपद पिछड़ा है। अधिकांश पुरूष सशस्त्र सेना में कार्यरत हैं। इस जनपद में पर्यटन की अपार सम्भावनाऐं विद्यमान हैं। पर्यटन के विकास को दृष्टिगत रखते हुए जिला मुख्यालय पिथौरागढ़ के निकट हवार्इ पट्टी का निर्माण किया गया है।
       जनपद पिथौरागढ़ की धरातलीय बनावट ग्लेशियर से निकले पहाड़ी जिनमें ग्रेनाइट तथा चूने के पत्थर का सम्मिश्रण है, की पार्इ जाती है। जनपद पिथौरागढ़ की निचली घाटियों में दोमट एवं अपेक्षाकृत अधिक उपजाऊ मिटटी अधिकतर क्षेत्रों में विद्यमान है जो प्राय: कृषि कार्यो हेतु अधिक उपयोगी है। जनपद का सम्पूर्ण भाग पर्वतीय क्षेत्र होने के फलस्वरूप भूमिगत जल का एकदम अभाव है। जनपद की प्रमुख नदियाँ सरयू, रामगंगा, गोरी, काली एवं धौली बढ़ी नदियाँ हैं।
जनपद समुद्र तल से लगभग 2,000 फीट से 20,000 फीट की ऊँचार्इ पर स्थित है। जलवायु की दृष्टि से जनपद को सामान्यत: पाँच उप-सम्भागों मे विभक्त किया जा सकता है।
          1. समुद्र तल से 2500 फीट की ऊँचार्इ वाले क्षेत्रों की जलवायु गर्म है।
          2. समुद्र तल से 2500 फीट से 5000 फीट तक की ऊँचार्इ वाले क्षेत्रों की जलवायु समशीतोष्ण है।
          3. समुद्र तल से 5000 फीट से 7000 फीट तक की ऊँचार्इ वाले क्षेत्रों की जलवायु बहुत ठण्डी है। इन क्षेत्रों में शीतकाल में बर्फ गिरती है।
          4. समुद्र तल से 7000 फीट से 12000 फीट तक की ऊँचार्इ वाले क्षेत्रों में जलवायु बहुत ठण्डी है। इन क्षेत्रों में शीतकाल में बर्फ जमती है।
          5. समुद्र तल से 12000 फीट से अधिक ऊँचार्इ वाले क्षेत्रों इनमें हिमाच्छादित पर्वत श्रेणियाँ समिमलित हैं। इन क्षेत्रों में प्राय: वर्ष भर बर्फ जमी रहती है।
वन :- जनपद का वर्ष 2011 - 2012 में कुल प्रतिवेदित क्षेत्रफल 4,11,883 हे. में से 2,05,299 हे. क्षेत्र (50 प्रतिशत) वनों के अन्तर्गत है। पर्वतीय क्षेत्र में भूमि एवं जल संरक्षण तथा पर्यावरण सन्तुलन की दृष्टि से कम से कम 66 प्रतिशत क्षेत्र में वनों का होना आवश्यक है।
क्र0सं0 मद अवधि इकार्इ विवरण
(क) भौगोलिक आंकड़े
१. अक्षांस 29.4 ° से 30.3 ° उत्तरी अंक्षाश
२. देशान्तर 80 ° से 81 ° पूर्वी देशान्तर
३. भौगौलिक क्षेत्रफल 2013 वर्ग0 कि0मी0 7090
४. वन क्षेत्र 2013 वर्ग0 कि0मी0 2052
(ख) प्रशासनिक इकाइयां
१. तहसील –
1.पिथौरागढ़, 2.डीडीहाट, 3.धारचूला, 4.मुनष्यारी, 5.बेरीनाग, 6.गंगोलीहाट, 7.बंगापानी, 8.गडार्इ-गंगोली, 9.कनालीछीना, 10.देवलथल, 11.थल
2014 संख्या 10
२. सामुदायिक विकास खण्ड -
1.पिथौरागढ़, 2.डीडीहाट, 3.धारचूला, 4.मुनष्यारी, 5.बेरीनाग, 6.गंगोलीहाट, 7.मूनाकोट, 8.कनालीछीना
2014 संख्या 8
३. न्याय पंचायत 2014 संख्या 64
४. ग्राम पंचायत 2014 संख्या 690
५. जनगणना ग्राम (जनगणना 2011 के अनुसार) 2011 संख्या 1675
(i)a. आबाद राजस्व ग्राम (जनगणना 2011 के अनुसार)
(i)b. आबाद राजस्व ग्राम (31 मार्च 2014 की सिथति के अनुसार)
2011
2014
संख्या
संख्या
1560
1542
(ii) गैर आबाद राजस्व ग्राम 2011 संख्या 66
(iii) आबाद वन ग्राम 2011 संख्या 12
(iv) गैर आबाद वन ग्राम 2011 संख्या 37
६. नगर/ नगर समूह
(i) नगर पालिका परिषद 2014 संख्या 1
(ii) नगर पंचायत 2014 संख्या 5
(iii) जनगणना शहर 2014 संख्या 1
७. लोक सभा क्षेत्र 2014 संख्या 1(आंशिक)
८. राज्य सभा क्षेत्र 2014 संख्या 1(आंशिक)
९. विधान सभा क्षेत्र 2014 संख्या 4
१०. पुलिस स्टेशन-
1.थल 2.जौलजीबी 3.बलुवाकोट 4.पागला 5.धारचूला 6.बेरीनाग 7.गंगोलीहाट 8.डीडीहाट 9.झूलाघाट 10.कनालीछीना 11.मुनष्यारी 12.अस्कोट 13.कोतवाली पिथौरागढ़।
2014 संख्या 13
क्र0सं0 मद अवधि इकार्इ विवरण
(क) लिंगानुसार वितरण
१. रुल जनसंख्या 2011 संख्या 4,83,439
पुरूष 2011 संख्या 2,39,306
स्त्री 2011 संख्या 2,44,133
२. लिंग अनुपात 2011 प्रति हजार पुरूषों पर महिलायें 1,020
३. जनसंख्या का घनत्व 2011 प्रति वर्ग कि0मी0 68
४. ग्रामीण जनसंख्या 2011 संख्या 4,13,834
पुरूष 2011 संख्या 2,39,306
स्त्री 2011 संख्या 2,10,904
(ख) साक्षरता दर
कुल 2011 प्रतिशत 82.25
पुरूष 2011 प्रतिशत 92.75
स्त्री 2011 प्रतिशत 72.29
(ग) श्रेणीवार कर्मकर
१. मुख्य कर्मकर 2011 संख्या 1,45,481
कृषक 2011 संख्या 87,189
कृषि श्रमिक 2011 संख्या 2,204
पारिवारिक उद्योग 2011 संख्या 3,299
अन्य 2011 संख्या 52,789
२. सीमान्त कर्मकर 2011 संख्या 71,009
कृषक 2011 संख्या 50,143
कृषि श्रमिक 2011 संख्या 3,228
पारिवारिक उद्योग 2011 संख्या 2,756
अन्य 2011 संख्या 14,882
(घ) विकलांगता
विकलांग व्यक्तियों की संख्या 2001 संख्या 10,247
विकलांगता का प्रतिशत 2001 प्रतिशत 2.22

Note: Click on the links to read more.

कृपया अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें http://pithoragarh.nic.in/